en English
en English

Corona Virus, Many Countries Come Forward To Help India And France Will Give Oxygen – कोरोना को मिलेगी मात: भारत को फ्रांस देगा ऑक्सीजन, अमेरिका ने वैक्सीन के लिए कच्चे माल का दिया भरोसा


सार

फ्रांस के राष्ट्रपति मैंक्रो ने रविवार को कहा कि कोरोना के बढ़ते मामलों से जूझ रहे भारत को देख फ्रांस आने वाले दिनों में मेडिकल ऑक्सीजन क्षमता के साथ उसकी मदद करने की योजना बना रहा है।

फ्रांस के राष्ट्रपति मैंक्रो और अमेरिक के राष्ट्रपति जो बाइडन
– फोटो : twitter

ख़बर सुनें

भारत में कोरोना की दूसरी लहर में मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, स्थिति दिनों-दिन गंभीर होती जा रही है। इसकी वजह से लाखों लोगों के जीवन पर संकट आ खड़ा हुआ है। वहीं ऑक्सीजन संकट की वजह से देश में हाहाकार मचा हुआ है। उसे लेकर दुनियाभर की नजरें भारत पर टिकी हैं और कई बड़े देशों ने मदद का हाथ भी भारत की तरफ बढ़ाया है।

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैंक्रो ने रविवार को कहा कि कोरोना के बढ़ते मामलों से जूझ रहे भारत को फ्रांस आने वाले दिनों में मेडिकल ऑक्सीजन क्षमता के साथ उसकी मदद करने की योजना बना रहा है।

इसी के साथ ही जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल, ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन और यूरोपीय संघ ने भारत को एक महामारी के खिलाफ मदद करने की योजना की घोषणा की है। इन देशों ने भारत में अस्पताल के बेड और मेडिकल ऑक्सीजन का भंडारण करने की योजना बनाई है।

जर्मन की चांसलर मैर्केल ने कहा कि भारत को मदद करने के लिए एक मिशन तैयार है। ट्विटर पर उनके प्रवक्ता स्टीफन सीबेरट द्वारा किए गए संदेश में कहा कि भारत के लोगों के लिए मैं उस भयानक पीड़ा पर अपनी सहानुभूति व्यक्त करना चाहती हूं जो कोविड की वजह से समुदायों पर आई है। साथ ही कहा महामारी के खिलाफ लड़ाई हमारी आम लड़ाई है। जर्मनी भारत के साथ एकजुटता से खड़ा है और तत्काल एक मिशन तैयार कर रहा है।

ब्रिटिश उच्चायोग और यूरोपीय संघ ने बढ़ाया मदद का हाथ
वहीं ब्रिटिश उच्चायोग ने भारत की तरफ अपना हाथ बढ़ाया है और वह कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई में भारत को 600 से अधिक महत्वपूर्ण चिकित्सा उपकरण भारत भेजेगा।

वहीं इससे पहले यूरोपीय संघ (ईयू) ने कहा कि वह भारत को मदद करने की पूरी कोशिश करेगा। देश में कोरोना के मामलों और मौतों में तेज वृद्धि के बीच जिसके कारण कुछ हिस्सों में अस्पताल के बेड और मेडिकल ऑक्सीजन की कमी हुई है।

भारत ने 24 घंटों में 3,49,691 नए कोरोना के मामले दर्ज किए हैं। पिछले साल महामारी के बाद से एक दिन में इतनी संख्या में पहली बार मामले सामने आए। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, पिछले 24 घंटों में कोरोना के कारण देश में 2,767 नई मौतें दर्ज की गई हैं।

अमेरिका ने वैक्सीन के लिए कच्चे माल का दिया भरोसा
कोरोना वैक्सीन को बनाने के लिए कच्चे माल की कमी के बाद भारत ने अमेरिका से कच्चे माल पर लगाई गई रोक को हटाने का आग्रह किया था। अब राहत की खबर आ रही है कि अमेरिका भारत को वैक्सीन के लिए कच्चा माल देने को तैयार हो गया है। 

बता दें कि दोनों देशों के एनएसए के बीच फोन पर हुई बातचीत के बाद व्हाइट हाउस ने बयान जारी किया है। इस बयान में अमेरिकी एनएसए जेक सुलिवन ने कहा कि अमेरिका भारत के साथ कदम से कदम मिलाकर काम करने को तैयार हैं। कोरोना महामारी की शुरुआत में  भारत ने अमेरिका के अस्पतालों के लिए मदद भेजी थी अब अमेरिका ने भी भारत के मुश्किल हालात में मदद करने के लिए दृढ़ता दिखाई है।

कोविशील्ड वैक्सीन के लिए कच्चा माल उपलब्ध करवाएगा अमेरिका
व्हाइट हाउस की ओर से जारी बयान के अनुसार, अमेरिका ने भारत में कोविशील्ड वैक्सीन के निर्माण के लिए आवश्यक कच्चे माल की पहचान कर ली है जिसे तुरंत भारत को उपलब्ध कराए जाएंगे। 

पाकिस्तान के विपक्ष के नेताओं ने कोविड-19 वैश्विक महामारी से लड़ रहे भारत के लोगों के प्रति एकजुटता व्यक्त की और उम्मीद जताई कि दोनों देश एक दूसरे को नष्ट करने पर अरबों रुपए खर्च करने के बजाए अपने लोगों के लिए स्वास्थ्य सेवा सुनिश्चित करने पर ध्यान केंद्रित करेंगे।

पाकिस्तान की नेशनल असेम्बली में विपक्ष के नेता शहबाज शरीफ ने रविवार को ट्वीट किया कि मौत और बीमारी के समय मानवता धर्म एवं राष्ट्र से ऊपर होती है। हम कोविड-19 से बुरी तरह प्रभावित हुए भारत के लोगों के लिए प्रार्थना करते हैं।

उन्होंने कहा कि उम्मीद है कि समझदारी से काम लिया जाएगा और दक्षिण एशियाई देश एक दूसरे को नष्ट करने पर अरबों रुपए खर्च करने के बजाए अपने लोगों के लिए स्वास्थ्य सेवा सुनिश्चित करने पर ध्यान केंद्रित कर सकेंगे।

पीएमएलएन उपाध्यक्ष एवं पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज ने कहा कि भारत में दिल दहलाने वाले दृश्य देखने को मिले हैं। अल्लाह हम सब पर रहम करे। आमीन।

पाकिस्तान ने कोविड-19 की घातक लहर से लड़ने में मदद देने के लिए भारत को वेंटिलेटर समेत अन्य राहत सामग्रियां उपलब्ध कराने की पेशकश की है और कहा कि दोनों देश वैश्विक महामारी के कारण उभरी चुनौतियों से निपटने के लिए आगे सहयोग के संभावित तरीकों की संभावनाएं तलाश सकते हैं।

यह पेशकश पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के भारत के लोगों के साथ एकजुटता दिखाने के बाद की गई है। उन्होंने कहा, “हमें मानवता के सामने आई इस वैश्विक चुनौती से मिलकर लड़ना होगा।

विस्तार

भारत में कोरोना की दूसरी लहर में मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, स्थिति दिनों-दिन गंभीर होती जा रही है। इसकी वजह से लाखों लोगों के जीवन पर संकट आ खड़ा हुआ है। वहीं ऑक्सीजन संकट की वजह से देश में हाहाकार मचा हुआ है। उसे लेकर दुनियाभर की नजरें भारत पर टिकी हैं और कई बड़े देशों ने मदद का हाथ भी भारत की तरफ बढ़ाया है।

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैंक्रो ने रविवार को कहा कि कोरोना के बढ़ते मामलों से जूझ रहे भारत को फ्रांस आने वाले दिनों में मेडिकल ऑक्सीजन क्षमता के साथ उसकी मदद करने की योजना बना रहा है।

इसी के साथ ही जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल, ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन और यूरोपीय संघ ने भारत को एक महामारी के खिलाफ मदद करने की योजना की घोषणा की है। इन देशों ने भारत में अस्पताल के बेड और मेडिकल ऑक्सीजन का भंडारण करने की योजना बनाई है।

जर्मन की चांसलर मैर्केल ने कहा कि भारत को मदद करने के लिए एक मिशन तैयार है। ट्विटर पर उनके प्रवक्ता स्टीफन सीबेरट द्वारा किए गए संदेश में कहा कि भारत के लोगों के लिए मैं उस भयानक पीड़ा पर अपनी सहानुभूति व्यक्त करना चाहती हूं जो कोविड की वजह से समुदायों पर आई है। साथ ही कहा महामारी के खिलाफ लड़ाई हमारी आम लड़ाई है। जर्मनी भारत के साथ एकजुटता से खड़ा है और तत्काल एक मिशन तैयार कर रहा है।

ब्रिटिश उच्चायोग और यूरोपीय संघ ने बढ़ाया मदद का हाथ

वहीं ब्रिटिश उच्चायोग ने भारत की तरफ अपना हाथ बढ़ाया है और वह कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई में भारत को 600 से अधिक महत्वपूर्ण चिकित्सा उपकरण भारत भेजेगा।

वहीं इससे पहले यूरोपीय संघ (ईयू) ने कहा कि वह भारत को मदद करने की पूरी कोशिश करेगा। देश में कोरोना के मामलों और मौतों में तेज वृद्धि के बीच जिसके कारण कुछ हिस्सों में अस्पताल के बेड और मेडिकल ऑक्सीजन की कमी हुई है।

भारत ने 24 घंटों में 3,49,691 नए कोरोना के मामले दर्ज किए हैं। पिछले साल महामारी के बाद से एक दिन में इतनी संख्या में पहली बार मामले सामने आए। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, पिछले 24 घंटों में कोरोना के कारण देश में 2,767 नई मौतें दर्ज की गई हैं।

अमेरिका ने वैक्सीन के लिए कच्चे माल का दिया भरोसा

कोरोना वैक्सीन को बनाने के लिए कच्चे माल की कमी के बाद भारत ने अमेरिका से कच्चे माल पर लगाई गई रोक को हटाने का आग्रह किया था। अब राहत की खबर आ रही है कि अमेरिका भारत को वैक्सीन के लिए कच्चा माल देने को तैयार हो गया है। 

बता दें कि दोनों देशों के एनएसए के बीच फोन पर हुई बातचीत के बाद व्हाइट हाउस ने बयान जारी किया है। इस बयान में अमेरिकी एनएसए जेक सुलिवन ने कहा कि अमेरिका भारत के साथ कदम से कदम मिलाकर काम करने को तैयार हैं। कोरोना महामारी की शुरुआत में  भारत ने अमेरिका के अस्पतालों के लिए मदद भेजी थी अब अमेरिका ने भी भारत के मुश्किल हालात में मदद करने के लिए दृढ़ता दिखाई है।

कोविशील्ड वैक्सीन के लिए कच्चा माल उपलब्ध करवाएगा अमेरिका

व्हाइट हाउस की ओर से जारी बयान के अनुसार, अमेरिका ने भारत में कोविशील्ड वैक्सीन के निर्माण के लिए आवश्यक कच्चे माल की पहचान कर ली है जिसे तुरंत भारत को उपलब्ध कराए जाएंगे। 


आगे पढ़ें

पाकिस्तान में विपक्षी नेताओं ने भारत के साथ एकजुटता व्यक्त की



Source link

हमें खबर को बेहतर बनाने में सहायता करें

खबर में कोई नई नॉलेज मिली?
क्या आप इसको शेयर करना चाहेंगे?
जानकारी, भाषा, हेडिंग अच्छी है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live COVID-19 statistics for
India
Confirmed
33,678,786
Recovered
0
Deaths
447,194
Last updated: 1 minute ago

Vistors

6772
Total Visit : 6772