en English
en English

Corona Death In Maharashtra Crossed One Lakh And 12557 New Cases In 24 Hours – महाराष्ट्र: कोरोना से मरने वालों की संख्या एक लाख पार, 24 घंटे में 12557 नए मामले सामने आए


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मुंबई
Published by: Jeet Kumar
Updated Mon, 07 Jun 2021 12:58 AM IST

सांकेतिक तस्वीर….
– फोटो : पीटीआई

ख़बर सुनें

कोरोना की दूसरी लहर में सबसे ज्यादा प्रभावित राज्यों में महाराष्ट्र भी एक है। महाराष्ट्र में बीते 24 घंटों में 12557 नए मामले सामने आए। रविवार को कोरोना से 233 लोगों की मौतें हुई। वहीं राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या एक लाख के पार कर गई। महाराष्ट्र देश का पहला राज्य है जहां एक लाख से ज्यादा मौतें हुई हैं। 

महाराष्ट्र में फिलहाल कुल संक्रमितों की संख्या 5831781 हो गई। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि एक दिन में 14433 मरीजों के संक्रमण मुक्त होने के बाद कुल स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 5543267 हो गई।

महाराष्ट्र में स्वस्थ होने की दर 95.05 फीसदी और मृत्यु दर 1.72 फीसदी है। राज्य में 185527 मरीजों का उपचार चल रहा है। मुंबई में कोविड-19 के 786 नए मामले सामने आए हैं और 20 लोगों की मौत हुई। महानगर में अब तक संक्रमण के 710643 मामले सामने आ चुके हैं और 14971 लोगों की मौत हो चुकी है।

महाराष्ट्र में बढ़ा लॉकडाउन
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य में लॉकडाउन जैसे प्रतिबंधों को 15 जून तक बढ़ा दिया है। हालांकि सात जून से लॉकडाउन के नियमों में कुछ ढील दी जाएगी। राज्य में साप्ताहिक कोविड सकारात्मकता दर और ऑक्सीजन बेड की उपलब्धता के आधार पर प्रतिबंधों को कम करने के लिए पांच-स्तरीय योजना लागू किया गया है।

पांच प्रतिशत से कम की सकारात्मकता दर और 25 प्रतिशत से कम ऑक्सीजन बेड की उपलब्धता वाले शहर और जिले पूरी तरह से खुलेंगे। अन्य शहरों और जिलों में अलग-अलग मानकों के प्रतिबंध जारी रहेंगे।

जिन जगहों पर पॉजिटिविटी रेट 20 फीसदी से ज्यादा है और ऑक्सीजन बेड की क्षमता 75 फीसदी से ज्यादा है, वहां सिर्फ जरूरी दुकानें ही शाम 4 बजे तक खुली रहेंगी और ऑफिस में 15 फीसद कर्मचारी ही काम करेंगे। 

सोच समझकर कदम उठा रही है महाराष्ट्र सरकार: ठाकरे
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने रविवार को कहा कि सरकार कोरोना वायरस के चलते राज्य में लागू पाबंदियों में ढील देने के मामले में सोच समझकर कदम उठा रही है। उन्होंने अग्रणी उद्योपतियों के साथ हुई डिजिटल बैठक के दौरान यह बात कही।

राज्य सरकार ने सोमवार से प्रदेश में पाबंदियों में ढील देने के लिये पांच स्तरीय योजना की घोषणा की थी। इसमें साप्ताहिक संक्रमण दर और ऑक्सीजन बिस्तरों पर मरीजों की संख्या के आधार पर ढील देने की बात कही गई है। इस संबंध में शुक्रवार रात एक अधिसूचना जारी की जा चुकी है। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘राज्य सरकार सोच-समझकर कदम उठा रही है। 

विस्तार

कोरोना की दूसरी लहर में सबसे ज्यादा प्रभावित राज्यों में महाराष्ट्र भी एक है। महाराष्ट्र में बीते 24 घंटों में 12557 नए मामले सामने आए। रविवार को कोरोना से 233 लोगों की मौतें हुई। वहीं राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या एक लाख के पार कर गई। महाराष्ट्र देश का पहला राज्य है जहां एक लाख से ज्यादा मौतें हुई हैं। 

महाराष्ट्र में फिलहाल कुल संक्रमितों की संख्या 5831781 हो गई। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि एक दिन में 14433 मरीजों के संक्रमण मुक्त होने के बाद कुल स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 5543267 हो गई।

महाराष्ट्र में स्वस्थ होने की दर 95.05 फीसदी और मृत्यु दर 1.72 फीसदी है। राज्य में 185527 मरीजों का उपचार चल रहा है। मुंबई में कोविड-19 के 786 नए मामले सामने आए हैं और 20 लोगों की मौत हुई। महानगर में अब तक संक्रमण के 710643 मामले सामने आ चुके हैं और 14971 लोगों की मौत हो चुकी है।

महाराष्ट्र में बढ़ा लॉकडाउन

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य में लॉकडाउन जैसे प्रतिबंधों को 15 जून तक बढ़ा दिया है। हालांकि सात जून से लॉकडाउन के नियमों में कुछ ढील दी जाएगी। राज्य में साप्ताहिक कोविड सकारात्मकता दर और ऑक्सीजन बेड की उपलब्धता के आधार पर प्रतिबंधों को कम करने के लिए पांच-स्तरीय योजना लागू किया गया है।

पांच प्रतिशत से कम की सकारात्मकता दर और 25 प्रतिशत से कम ऑक्सीजन बेड की उपलब्धता वाले शहर और जिले पूरी तरह से खुलेंगे। अन्य शहरों और जिलों में अलग-अलग मानकों के प्रतिबंध जारी रहेंगे।

जिन जगहों पर पॉजिटिविटी रेट 20 फीसदी से ज्यादा है और ऑक्सीजन बेड की क्षमता 75 फीसदी से ज्यादा है, वहां सिर्फ जरूरी दुकानें ही शाम 4 बजे तक खुली रहेंगी और ऑफिस में 15 फीसद कर्मचारी ही काम करेंगे। 

सोच समझकर कदम उठा रही है महाराष्ट्र सरकार: ठाकरे

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने रविवार को कहा कि सरकार कोरोना वायरस के चलते राज्य में लागू पाबंदियों में ढील देने के मामले में सोच समझकर कदम उठा रही है। उन्होंने अग्रणी उद्योपतियों के साथ हुई डिजिटल बैठक के दौरान यह बात कही।

राज्य सरकार ने सोमवार से प्रदेश में पाबंदियों में ढील देने के लिये पांच स्तरीय योजना की घोषणा की थी। इसमें साप्ताहिक संक्रमण दर और ऑक्सीजन बिस्तरों पर मरीजों की संख्या के आधार पर ढील देने की बात कही गई है। इस संबंध में शुक्रवार रात एक अधिसूचना जारी की जा चुकी है। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘राज्य सरकार सोच-समझकर कदम उठा रही है। 



Source link

हमें खबर को बेहतर बनाने में सहायता करें

खबर में कोई नई नॉलेज मिली?
क्या आप इसको शेयर करना चाहेंगे?
जानकारी, भाषा, हेडिंग अच्छी है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live COVID-19 statistics for
India
Confirmed
33,678,786
Recovered
0
Deaths
447,194
Last updated: 3 minutes ago

Vistors

6772
Total Visit : 6772