en English
en English

10 Lakh Reward Announced On Three Terrorists Involved In Sopore Attack – ध्यान दें: सोपोर हमले में शामिल तीन आतंकियों पर 10-10 लाख का इनाम घोषित, लगाए गए पोस्टर


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, बारामुला/श्रीनगर
Published by: Vikas Kumar
Updated Tue, 15 Jun 2021 12:55 AM IST

सार

गत शनिवार को सोपोर में आतंकी हमले में पुलिस के दो जवान कांस्टेबल शौकत अहमद और कांस्टेबल वसीम अहमद शहीद हो गए थे। साथ ही दो आम नागरिक मंजूर अहमद और बशीर अहमद मारे गए थे। पुलिस के अनुसार जहां कश्मीर घाटी में करीब 150 सक्रिय आतंकी हैं जिनमें से उत्तरी कश्मीर में 40-50  हैं। इनमें से भी ज्यादातर आतंकी कुपवाड़ा, बारामुला बेल्ट में हैं।

आतंकियों को पोस्टर चस्पा
– फोटो : amar ujala

ख़बर सुनें

उत्तरी कश्मीर के बारामुला जिले के आरामपोरा सोपोर में सुरक्षाबलों पर हुए आतंकी हमले में शामिल लश्कर-ए-तैयबा के तीन आतंकियों पर पुलिस ने 10-10 लाख रुपये का इनाम घोषित किया है। हमले में शामिल आतंकी तीन आतंकियों मुदस्सिर पंडित, फयाज वार और खुर्शीद अहमद के पोस्टर पुलिस ने जारी किए हैं। हमले के दो दिन बाद तीनों आतंकियो के पोस्टर खंभे, दीवारों पर लगाए गए हैं। जानकारी देने वाले की पहचान गुप्त रखी जाएगी। पुलिस ने सूचना देने के लिए फोन नंबर भी जारी किए हैं। 

मुदस्सिर पंडित का जन्म सोपोर के डांगरपोरा गांव में 2 दिसंबर 1995 को हुआ था। इलाके के हायर सेकेंडरी स्कूल से पढ़ाई के बाद उसने सोपोर के हसन मोटर्स में बाइक मैकेनिक का काम शुरू किया। वर्ष 2016 से 2019 तक वहां काम करने के बाद 23 जून 2019 को वह आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा में शामिल हो गया। मुदस्सिर ए कैटेगरी का आतंकी है। 

फयाज अहमद वार 2 अप्रैल 1986 को सोपोर के वारपोरा गांव में पैदा हुआ था। गवर्नमेंट हाई स्कूल बटिंगू में 9वीं तक की पढ़ाई के बाद उसने स्कूल छोड़ दिया। एक साल तक घर पर ही बैठा रहा। इस दौरान वह राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में शामिल होता रहा और वर्ष 2008 में एक सक्रिय आतंकी बना। करीब 8 महीने बाद उसने श्रीनगर में आत्मसमर्पण किया और वहां से छूटने के बाद हिजबुल मुजाहिदीन के लिए ओजीडब्ल्यू के तौर पर काम करना शुरू कर दिया। इस बीच उसे हिज्ब के इम्तियाज अहमद कांदरू की तरफ से उन लोगों को मारने के निर्देश दिए गए, जिनके घरों में मोबाइल टावर लगे हुए थे। उसने कई पुलिसकर्मियों को भी निशाना बनाया। 4 मार्च 2020 को वह लश्कर में शामिल हो गया। इस समय वह बी कैटेगरी का आतंकी है। तीसरा आतंकी खुर्शीद अहमद मीर सोपोर के ब्रथ कलां का रहने वाला है और लश्कर का सी कैटेगरी का आतंकी है।
          
घाटी में 150 आतंकी सक्रिय 
गत शनिवार को सोपोर में आतंकी हमले में पुलिस के दो जवान कांस्टेबल शौकत अहमद और कांस्टेबल वसीम अहमद शहीद हो गए थे। साथ ही दो आम नागरिक मंजूर अहमद और बशीर अहमद मारे गए थे। पुलिस के अनुसार जहां कश्मीर घाटी में करीब 150 सक्रिय आतंकी हैं जिनमें से उत्तरी कश्मीर में 40-50  हैं। इनमें से भी ज्यादातर आतंकी कुपवाड़ा, बारामुला बेल्ट में हैं। सोपोर में एक पाकिस्तानी आतंकी के साथ 4-5 स्थानीय आतंकी सक्रिय थे जिनमें से 2 को मई महीने में मार गिराया गया था जो सोपोर में पार्षदों की हत्या में शामिल थे। अब इस ताजा हमले के बाद आने वाले दिनों में इन बाकी बचे आतंकियों के खिलाफ  एक बड़े ऑपरेशन की तैयारी शुरू कर दी गई है।

विस्तार

उत्तरी कश्मीर के बारामुला जिले के आरामपोरा सोपोर में सुरक्षाबलों पर हुए आतंकी हमले में शामिल लश्कर-ए-तैयबा के तीन आतंकियों पर पुलिस ने 10-10 लाख रुपये का इनाम घोषित किया है। हमले में शामिल आतंकी तीन आतंकियों मुदस्सिर पंडित, फयाज वार और खुर्शीद अहमद के पोस्टर पुलिस ने जारी किए हैं। हमले के दो दिन बाद तीनों आतंकियो के पोस्टर खंभे, दीवारों पर लगाए गए हैं। जानकारी देने वाले की पहचान गुप्त रखी जाएगी। पुलिस ने सूचना देने के लिए फोन नंबर भी जारी किए हैं। 

मुदस्सिर पंडित का जन्म सोपोर के डांगरपोरा गांव में 2 दिसंबर 1995 को हुआ था। इलाके के हायर सेकेंडरी स्कूल से पढ़ाई के बाद उसने सोपोर के हसन मोटर्स में बाइक मैकेनिक का काम शुरू किया। वर्ष 2016 से 2019 तक वहां काम करने के बाद 23 जून 2019 को वह आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा में शामिल हो गया। मुदस्सिर ए कैटेगरी का आतंकी है। 

फयाज अहमद वार 2 अप्रैल 1986 को सोपोर के वारपोरा गांव में पैदा हुआ था। गवर्नमेंट हाई स्कूल बटिंगू में 9वीं तक की पढ़ाई के बाद उसने स्कूल छोड़ दिया। एक साल तक घर पर ही बैठा रहा। इस दौरान वह राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में शामिल होता रहा और वर्ष 2008 में एक सक्रिय आतंकी बना। करीब 8 महीने बाद उसने श्रीनगर में आत्मसमर्पण किया और वहां से छूटने के बाद हिजबुल मुजाहिदीन के लिए ओजीडब्ल्यू के तौर पर काम करना शुरू कर दिया। इस बीच उसे हिज्ब के इम्तियाज अहमद कांदरू की तरफ से उन लोगों को मारने के निर्देश दिए गए, जिनके घरों में मोबाइल टावर लगे हुए थे। उसने कई पुलिसकर्मियों को भी निशाना बनाया। 4 मार्च 2020 को वह लश्कर में शामिल हो गया। इस समय वह बी कैटेगरी का आतंकी है। तीसरा आतंकी खुर्शीद अहमद मीर सोपोर के ब्रथ कलां का रहने वाला है और लश्कर का सी कैटेगरी का आतंकी है।

          

घाटी में 150 आतंकी सक्रिय 

गत शनिवार को सोपोर में आतंकी हमले में पुलिस के दो जवान कांस्टेबल शौकत अहमद और कांस्टेबल वसीम अहमद शहीद हो गए थे। साथ ही दो आम नागरिक मंजूर अहमद और बशीर अहमद मारे गए थे। पुलिस के अनुसार जहां कश्मीर घाटी में करीब 150 सक्रिय आतंकी हैं जिनमें से उत्तरी कश्मीर में 40-50  हैं। इनमें से भी ज्यादातर आतंकी कुपवाड़ा, बारामुला बेल्ट में हैं। सोपोर में एक पाकिस्तानी आतंकी के साथ 4-5 स्थानीय आतंकी सक्रिय थे जिनमें से 2 को मई महीने में मार गिराया गया था जो सोपोर में पार्षदों की हत्या में शामिल थे। अब इस ताजा हमले के बाद आने वाले दिनों में इन बाकी बचे आतंकियों के खिलाफ  एक बड़े ऑपरेशन की तैयारी शुरू कर दी गई है।



Source link

हमें खबर को बेहतर बनाने में सहायता करें

खबर में कोई नई नॉलेज मिली?
क्या आप इसको शेयर करना चाहेंगे?
जानकारी, भाषा, हेडिंग अच्छी है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live COVID-19 statistics for
India
Confirmed
33,594,803
Recovered
0
Deaths
446,368
Last updated: 5 minutes ago

Vistors

6687
Total Visit : 6687