en English
en English

Conversion Case: Many Addresses Entered In Umar Gautam’s Register Are Wrong, Nia Can File A Case – धर्मांतरण का मामला : उमर गौतम के रजिस्टर में दर्ज कई पते गलत, एनआईए दर्ज कर सकती है केस


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, लखनऊ
Published by: पंकज श्रीवास्‍तव
Updated Sun, 27 Jun 2021 12:16 AM IST

सार

एटीएस पता लगाने की कोशिश कर रही है कि किन परिस्थितियों में रजिस्टर में ये नाम लिखे गए थे। जल्द ही कुछ और गिरफ्तारियां हो सकती है। 

एटीएस की गिरफ्त में उमर गौतम
– फोटो : amar ujala

ख़बर सुनें

धर्मांतरण मामले में गिरफ्तार उमर गौतम से बरामद रजिस्टर में एक हजार से अधिक लोगों के नाम व पते दर्ज हैं। इन लोगों का धर्मांतरण उमर की संस्था इस्लामिक दावाह सेंटर ने कराया था। पर, रजिस्टर में कई पते गलत पाए गए हैं। तो कुछ ऐसे लोगों के नाम भी हैं, जो न कभी उमर से मिले थे और न ही दावाह सेंटर आए थे। एटीएस पता लगाने की कोशिश कर रही है कि किन परिस्थितियों में रजिस्टर में ये नाम लिखे गए थे। जल्द ही कुछ और गिरफ्तारियां हो सकती है। 

एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार का कहना है कि इस मामले में और जिन लोगों के बारे में जानकारी मिली है, उनके बारे में पड़ताल की जा रही है। बिना पुख्ता साक्ष्य के किसी की गिरफ्तारी नहीं करेंगे। उधर, दिल्ली के सूत्रों का कहना है कि धर्मांतरण मामले में एनआईए जल्द केस दर्ज कर सकती है। हालांकि यूपी के अफसरों का कहना है कि फिलहाल एटीएस ही पूरे मामले की जांच करेगी। जरूरत पड़ी तो केंद्रीय एजेंसियों की मदद ली जाएगी। 

विस्तार

धर्मांतरण मामले में गिरफ्तार उमर गौतम से बरामद रजिस्टर में एक हजार से अधिक लोगों के नाम व पते दर्ज हैं। इन लोगों का धर्मांतरण उमर की संस्था इस्लामिक दावाह सेंटर ने कराया था। पर, रजिस्टर में कई पते गलत पाए गए हैं। तो कुछ ऐसे लोगों के नाम भी हैं, जो न कभी उमर से मिले थे और न ही दावाह सेंटर आए थे। एटीएस पता लगाने की कोशिश कर रही है कि किन परिस्थितियों में रजिस्टर में ये नाम लिखे गए थे। जल्द ही कुछ और गिरफ्तारियां हो सकती है। 

एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार का कहना है कि इस मामले में और जिन लोगों के बारे में जानकारी मिली है, उनके बारे में पड़ताल की जा रही है। बिना पुख्ता साक्ष्य के किसी की गिरफ्तारी नहीं करेंगे। उधर, दिल्ली के सूत्रों का कहना है कि धर्मांतरण मामले में एनआईए जल्द केस दर्ज कर सकती है। हालांकि यूपी के अफसरों का कहना है कि फिलहाल एटीएस ही पूरे मामले की जांच करेगी। जरूरत पड़ी तो केंद्रीय एजेंसियों की मदद ली जाएगी। 



Source link

हमें खबर को बेहतर बनाने में सहायता करें

खबर में कोई नई नॉलेज मिली?
क्या आप इसको शेयर करना चाहेंगे?
जानकारी, भाषा, हेडिंग अच्छी है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live COVID-19 statistics for
India
Confirmed
33,678,786
Recovered
0
Deaths
447,194
Last updated: 8 minutes ago

Vistors

6786
Total Visit : 6786