en English
en English

Xi Jinping Aggressive Address On Completion Of 100 Years Of The Chinese Communist Party – शी जिनपिंग के बिगड़े बोल: विदेशी ताकतों ने विरोध किया तो सिर कुचल देंगे


चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के 100 साल पूरे होने पर बीजिंग में आयोजित एक समारोह में राष्ट्रपति शी जिनपिंग पूर्व नेता माओ त्से तुंग की तरह वस्त्र पहनकर आए और दुनिया को खुली धमकी दी।

शी ने कहा, हमें धमकाने या हमारे विरोध की कोशिश करने वाली विदेशी ताकतों का सिर कुचल दिया जाएगा। तियानमेन चौक से एक घंटे के भाषण में जिनपिंग ने देश के लोगों द्वारा बनाई गई नई दुनिया की सराहना की।

पीपुल्स रिपब्लिक के संस्थापक माओ त्से तुंग के बाद चीन के सबसे शक्तिशाली नेता शी ने कहा, चीन के लोग न सिर्फ पुरानी दुनिया के खत्म करना जानते हैं बल्कि उन्होंने एक नई दुनिया भी बनाई है।

अपने आक्रामक भाषण में उन्होंने कहा, सिर्फ समाजवाद ही चीन को बचा सकता है। उन्होंने ताइवान को भी धमकाते हुए चीन में मिलाने का संकल्प लिया और इसके लिए चीनी सेना के निर्माण जरूरी बताते हुए कहा कि चीन की सुरक्षा व संप्रभुता की रक्षा करते हुए हांगकांग में सामाजिक स्थिरता सुनिश्चित की जाएगी।

समारोह में उन्होंने कहा कि वो चीन की सैन्य ताकत को बढ़ाने और ताइवान, हांगकांग व मकाऊ को वापस मिलाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने यह भी कहा कि हम किसी भी ऐसी विदेशी ताकत यह अनुमति नहीं देंगे कि वह हमें आंख दिखाए, हम पर दबाव बनाए या हमें अपने अधीन करने की कोशिश करे।

खुद को बताया सत्य की राह पर चलने वाला
भारत में लद्दाख पर आंखें गढ़ाए बैठे चीन के राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में विदेशी ताकतों पर तो कई हमले किए लेकिन खुद को सत्य की राह पर चलने वाला बताया। शी ने कहा, दुनिया चीनी लोगों के मजबूत इरादे और बेजोड़ ताकत को कम न आंके। जिनपिंग ने कहा, हमने न किसी को दबाया है, न आंख दिखाई है और न ही किसी अन्य देश को अपने अधीन करने की कोशिश की है। हम आगे भी ऐसा नहीं करेंगे।

चीन का उत्पीड़न करने वालों को चेताया
68 वर्षीय शी जिनपिंग ने कहा कि ताइवान को अपने देश में मिलाना चीन का ऐतिहासिक लक्ष्य है और हम किसी भी विदेशी ताकत को अपने देशवासियों को परेशान, उत्पीड़ित या उनके अधीन नहीं करने देंगे। शी ने चेतावनी दी कि यदि किसी अन्य देश ने भी ऐसा करने की कोशिश भी की तो उसे 1.4 अरब से अधिक चीनी लोगों की ‘लोहे’ की विशाल दीवार से टकराना होगा।

अमेरिकी प्रतिद्वंद्विता के बीच चीन कर रहा 100 से ज्यादा मिसाइल साइलो का निर्माण
अमेरिका के साथ जारी प्रतिद्वंद्विता के बीच चीन इन दिनों तेजी से अपनी मिसाइल क्षमता बढ़ा रहा है। हाल में ली गई सैटेलाइट तस्वीरों से पता चला है कि चीन उत्तर-पश्चिमी शहर युमेन के पास एक रेगिस्तान में अंतरमहाद्वीपीय बैलेस्टिक मिसाइलों के लिए 100 से ज्यादा नए साइलो का निर्माण कर रहा है। साइलो स्टोरेज कंटेनर होते हैं, जिनके अंदर लंबी दूरी तक मार करने वाली मिसाइलें रखी जाती हैं।

द वाशिंगटन पोस्ट की रिपोर्ट के अनुसार, कैलिफोर्निया में जेम्स मार्टिन सेंटर फॉर नॉनप्रोलिफरेशन स्टडीज के शोधकर्ताओं ने सैटेलाइट तस्वीरों के आधार पर बताया है कि चीन के गांसु प्रांत में सैकड़ों वर्ग मील में फैले रेगिस्तान में कई साइट पर इन साइलोज को बनाने का काम चल रहा है।

शोधकर्ताओं को 119 ऐसे निर्माण स्थलों का पता चला है, जहां चीन बैलेस्टिक मिसाइलों को लॉन्च करने के लिए नई सुविधाएं बना रहा है। यदि 100 से ज्यादा मिसाइल साइलो का निर्माण पूरा हो जाता है तो चीन की एटमी क्षमता काफी बढ़ जाएगी। माना जाता है कि फिलहाल चीन के पास 250 से 350 एटमी हथियारों का जखीरा है।

हांगकांग में चीन के हिमायती ने कहा, सुरक्षा कानून सही है
चीन के हिमायती हांगकांग के मुख्य सचिव जॉन ली ने कहा है कि इस स्वायत्त क्षेत्र में सुरक्षा कानून स्थानीय लोगों को पूरी आजादी देता है। उन्होंने कहा, मीडिया समेत अन्य सभी लोगों को नियमों के दायरे में ही रहकर इस आजादी का सम्मान करना चाहिए और उसका आनंद उठाना चाहिए। ली ने ये भी कहा कि आने वाले समय में इस कानून का इस्तेमाल यहां की स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए किया जाएगा।



Source link

हमें खबर को बेहतर बनाने में सहायता करें

खबर में कोई नई नॉलेज मिली?
क्या आप इसको शेयर करना चाहेंगे?
जानकारी, भाषा, हेडिंग अच्छी है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live COVID-19 statistics for
India
Confirmed
33,678,786
Recovered
0
Deaths
447,194
Last updated: 2 minutes ago

Vistors

6772
Total Visit : 6772