en English
en English

Madhya Pradesh Mbbs Students Will Read The Thoughts Of Rss The Course Will Include The Life Essence Of Dr. Hedgewar And Deendayal Upadhyay – मध्य प्रदेश: एमबीबीएस के छात्र पढ़ेंगे आरएसएस के विचार, कोर्स में शामिल होगा डॉ. हेडगेवार व दीनदयाल उपाध्याय का जीवन सार


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, भोपाल
Published by: प्रांजुल श्रीवास्तव
Updated Sun, 05 Sep 2021 12:55 PM IST

सार

मेडिकल छात्रों के फाउंडेशन कोर्स में आरएसएस के संस्थापक डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार, जनसंघ के संस्थापक पंडित दीनदयाल उपाध्याय, डॉ. आंबेडकर, स्वामी विवेकानंद, महर्षि चरक, आचार्य सुश्रुत के विचारों को शामिल किया गया है। 
 

प्रतीकात्मक तस्वीर
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

मध्य प्रदेश अपने मेडिकल पाठ्यक्रम में बड़ा बदलाव करने जा रहा है। इसके तहत अब एमबीबीए के छात्रों को मेडिकल की पढ़ाई के साथ-साथ आरएसएस के विचार भी पढ़ने होंगे। छात्रों के बौद्धिक विकास के लिए देश के विचारकों और वैल्यू बेस्ड मेडिकल एजुकेशन को इसी सत्र से शामिल किया जा रहा है। 

इसको लेकर रविवार को मध्य प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग का बयान भी आया है। उन्होंने बताया कि वैल्यू बेस्ड मेडिकल एजुकेशन के लिए आरएसएस के संस्थापक डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार, जनसंघ के संस्थापक पंडित दीनदयाल उपाध्याय, डॉ. आंबेडकर, स्वामी विवेकानंद, महर्षि चरक, आचार्य सुश्रुत के विचारों को पाठ्यक्रम का हिस्सा बनाया जा रहा है। 

फाउंडेशन कोर्स में बतौर लेक्चर होंगे शामिल 
जानकारी के मुताबिक, चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने 25 जनवरी को एक नोटशीट संबंधित विभाग के अफसरों को भेजी थी। पांच सदस्यों की कमेटी सुझाव लेने के लिए बनाई गई थी। इन्हीं सुझावों के आधार पर जीवन दर्शन के महत्व वाले लेक्चर को फाउंडेशन कोर्स में शामिल किया गया है। ये लेक्चर फाउंडेशन कोर्स के मेडिकल एथिक्स  टॉपिक में शामिल होंगे। 

 

विस्तार

मध्य प्रदेश अपने मेडिकल पाठ्यक्रम में बड़ा बदलाव करने जा रहा है। इसके तहत अब एमबीबीए के छात्रों को मेडिकल की पढ़ाई के साथ-साथ आरएसएस के विचार भी पढ़ने होंगे। छात्रों के बौद्धिक विकास के लिए देश के विचारकों और वैल्यू बेस्ड मेडिकल एजुकेशन को इसी सत्र से शामिल किया जा रहा है। 

इसको लेकर रविवार को मध्य प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग का बयान भी आया है। उन्होंने बताया कि वैल्यू बेस्ड मेडिकल एजुकेशन के लिए आरएसएस के संस्थापक डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार, जनसंघ के संस्थापक पंडित दीनदयाल उपाध्याय, डॉ. आंबेडकर, स्वामी विवेकानंद, महर्षि चरक, आचार्य सुश्रुत के विचारों को पाठ्यक्रम का हिस्सा बनाया जा रहा है। 

फाउंडेशन कोर्स में बतौर लेक्चर होंगे शामिल 

जानकारी के मुताबिक, चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने 25 जनवरी को एक नोटशीट संबंधित विभाग के अफसरों को भेजी थी। पांच सदस्यों की कमेटी सुझाव लेने के लिए बनाई गई थी। इन्हीं सुझावों के आधार पर जीवन दर्शन के महत्व वाले लेक्चर को फाउंडेशन कोर्स में शामिल किया गया है। ये लेक्चर फाउंडेशन कोर्स के मेडिकल एथिक्स  टॉपिक में शामिल होंगे। 

 





Source link

हमें खबर को बेहतर बनाने में सहायता करें

खबर में कोई नई नॉलेज मिली?
क्या आप इसको शेयर करना चाहेंगे?
जानकारी, भाषा, हेडिंग अच्छी है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live COVID-19 statistics for
India
Confirmed
33,678,786
Recovered
0
Deaths
447,194
Last updated: 1 minute ago

Vistors

6783
Total Visit : 6783